गौ गरीब किसान राष्ट्र रक्षा के कार्य मे तन मन धन से सहयोग करने के लिए बैंक खाता 👉State Bank Of India 👉Bhagwa Swayam Sevak 👉A/C No.-38213011238 IFSC Cod- SBIN0051451
जुड़ने के लिए -Joinus पर क्लिक कर फार्म भरे आपका भगवा किट डाक द्वारा आपके पते पर भेज दिया जाएगा आपका भगवा किट डाक द्वारा रवाना हुआ या नही हुआ इसकी जानकारी के लिए Tracking पर क्लिक करे एव अपना आधार नम्बर डाल कर सर्च करें आपको जानकारी मिल जाएगी
Image


सुरेश नोरवा

भगवा स्वयं सेवक संघ

संस्थापक - संघ प्रमुख
(जन्म 16 जून 1987)

प्रारम्भिक जीवन :

सुरेश राजपुरोहित नोरवा (जन्म 16 जून 1987) राजस्थान के जालोर जिले के आहोर तहसील में नोरवा गाॅव में जन्म हुआ , उनके पिता का नाम श्रीमान भंवर सिंह राजपुरोहित और माता का नाम श्रीमती लीला कंवर हैं । सुरेश नोरवा के कुल दो भाई और तीन बहने हैं, पांचो में से सुरेश नोरवा सबसे बड़े है एवं पूर्णतः शाकाहारी है।

सन् 1992 से 1996 तक उन्होनें नोरवा गांव की पाठशाला में विद्या ग्रहण कि और उसके बाद सुरेश नोरवा के पिताजी पूरे परिवार को लेकर नोरवा से 80 किलोमीटर दूर सुमेरपुर शहर में रहने लगे। सुमेरपुर में नोरवा को हाई सैकेण्डरी स्कूल में विद्या ग्रहण की

गई और मात्र 10 साल कि उम्र में जहाँ भी धार्मिक कार्यक्रम व हिन्दू जन जागृती रेली मे अपनी अहम् भूमिका निभाई हैं।

और उसी समय वो बजरंगदल की शाखा में जाने लगे और सन् 1997 में हिन्दू धर्म और गौ रक्षा पर दिनोदिन बढ़ रहे अत्याचार को देखते हुए मन में एक प्रण ले लिया कि अगर कुछ करना ही है तो हिन्दू धर्म की रक्षा और गौ माता की रक्षा करने में मेरा सम्पूर्ण जीवन इसी कार्य में लगाऊंगा और सन् 1998 में विद्यालय के अन्दर सांस्कृतिक कार्यक्रम होते तब हर कार्यक्रम में देश-भक्ति पर उग्र क्रान्तिकारी भाषण देते रहे हैं।

माता-पिता के आज्ञा का पालन कर सर्वप्रथम माता पिता की सेवा को सर्वश्रेष्ठ मानते हुए उनका आशीर्वाद लेकर के हमेशा घर से बाहर निकलते उनका कहना है कि

मेरी जाति हिन्दू हैं और हिन्दु मेरा धर्म है मै सर्व जाति को समान समझता हूँ और ऊँच नीच का भेदभाव मिटाना चाहता हूँ। मैं हिन्दुत्व के लिए जीता हूँ और हिन्दू समाज को संगठित करने की कोशिश करूंगा। मेरी दिल कि तमन्ना है और हर व्यक्ति कि मदद करने में 24 घण्टे सेवा में हमेशा तत्पर रहूँगा। सबसे ज्यादा किसी भी व्यक्ति को अस्पताल में किसी भी तरह की आवश्यकता पडने पर उन्होंने हर समय हर तरीके से मदद की हैं। और करते रहेंगे

सन् 1998 से लगाकर 2015 तक वो समाज सेवा और हिन्दू धर्म की रक्षा और गौ रक्षा के लिये एक कट्टर हिन्दूवादी क्रान्तिकारी के रूप में उभरते हुए युवा के रूप में तन-मन-धन से सहयोग करते रहे हैं और हमेशा क्रान्तिकारी पुस्तक पढ़ने के शौकिन रहे हैं।

हिन्दू धर्म की रक्षा एवं गौ माता की रक्षा के लिए सुरेश नोरवा हमेशा आगे आते रहे हैं।

© Copyright 2017. All rights reserved.
Powerd by Webmitra
Log in
Officer Directory